कल हो ना हो

आओ जी भरके आज जी लें अपनी जिंदगी

कल हो ना हो आज ही भरपूर जी लें जिंदगी

 

जिस दौड़ में दौड़ रहे उस का कोई अंत नही

आओ थोड़ा हम सुस्ताए और पी ले जिंदगी

 

कल बनाने को उत्सुक आज खत्म कर रहे

बीते कल से सीखें कुछ जिंदा बना ले जिंदगी

 

आओ प्रकृति को निहारे आसमान से बात करे

सूरज चंदा और तारों से आओ सजा ले जिंदगी

 

कुछ पल मित्रो के संग आओ आज गुजारे हम

खोल दे दिल उनके आगे सुंदर बना ले जिंदगी

 

धन दौलत और मोह माया सब धरी रह जाएगी

जब अचनाक आएगी मौत ले जाने को जिंदगी

 

आओ आज जी भरके जी लें अपनी जिंदगी

कल हो ना हो आज ही भरपूर जी लें जिंदगी

Leave a Comment

Your email address will not be published.