तुझे बनाऊँ मैं

—————

सारे जहाँ की ख़ुशियाँ तोड़ लाऊँ मैं
मिला कर इन सबको तुझे बनाऊँ मैं ।

उगते सूरज से थोड़ा प्रकाश चुराऊँ मैं
तेरे जीवन में नया उजियारा लाऊँ मैं ।

फूलो की ख़ुशबू से तेरी हँसी बनाऊँ मैं
महके जग ये सारा संग में मुस्काऊँ मैं ।

गंगा की निर्मल धारा आँगन ले आऊँ मैं
उसके पावन नीर से तेरी प्यास बुझाऊँ मैं ।

सागर की गहराई से मोती चुन लाऊँ मैं
माला बना के उनकी तुझको पहनाऊँ मैं ।

पवन के पंखो का एक झूला बनाऊँ मैं
बिठा के तुझ को उसमें ख़ूब झुलाऊँ मैं ।

चाँद से उसकी चाँदनी उधार ले आऊँ मैं
तेरे आने के रास्ते को ख़ूब सजाऊँ मैं ।

कोयल की बोली जैसी लॉरी सुनाऊँ मैं
तुझे सुला के फिर तेरे सपनो में आऊँ मैं ।

सावन की घटाओं को आवाज़ लगाऊँ मैं
वो श्रिंगार करे तुम्हारा लट सुलझाऊँ मैं ।

तारो की छांव में फिर तुझ को बिठलाऊँ मैं
प्रकृति तुम्हें दुल्हन बनायें दूल्हा बन जाऊँ मैं ।

हिमालय से ऊँचाई ले तेरी मूरत बनाऊँ मैं
हरदम निहारूँ उसको ख़ुद मूरत बन जाऊँ मैं ।

तेरी इस मनोहर छवि को मन में बसाऊँ मैं
तुम संग संग रहो सदा अपने पर इतराऊँ मैं ।।

Leave a Comment

Your email address will not be published.