heart, beat, heart beat-2211180.jpg

प्रेम करुणा दया

प्रेम करुणा दया से बढ़ कर

नही कोई जीवन का आधार

यदि आगमन हो जाये इनका

समझो खुला स्वर्ग का द्वार

 

मानव के मन की गुफा मे

जब अतिशय प्रेम उमड़ता है

तब हर वस्तु और व्यक्ति में

केवल ईश्वर ही दिखता है

 

मन वचन और कर्म में जब

करुणा ही करुणा छाती है

ख़ुद से पहले दूजे की चिंता

केवल बाकी रह जाती है

 

हृदय मे हर जीव के प्रति

जब दया का उफान आता है

तब समझो जीवन उद्देश्य

उच्चतम स्थान पा जाता है

 

हर एक मे दिखे परमात्मा

तब अह्म ब्रह्स्मि चरितार्थ हो

सब धर्मो का मर्म यही है

की प्राणीमात्र से प्यार हो

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.