भरपूर जी ले जिंदगी

जिंदगी ना मिलेगी दोबारा ख़ूब जी ले जिंदगी

बड़ी मस्त रसधार बह रही ख़ूब पी ले जिंदगी

समय हाथ से निकला जाता देता हमे संदेश ये

मत गँवा एक पल भी तू भरपूर जी ले जिंदगी

 

कोई चिंता ना कोई फिक्र सताए तुझे कभी भी

आनंद से जीवन गुजार आंनद बना ले जिंदगी

अँधेरा कभी भी तेरे पास दुःख का ना फटकेगा

चाँद हरदम चौदहवीं का रोशन बना ले जिंदगी

 

पिछले जन्म में क्या थे ये किसी को पता नही

इस जन्म को मान होली रंगों से सजाले जिंदगी

अगले जन्म में क्या होंगे ये कोई जानता नही

यही जन्म दीवाली सा आतिश बना ले जिंदगी

 

चहुँ और तू नजर दौड़ा देख उमड़ते यौवन को

कोकिला की आवाज सी मधुर बना ले जिंदगी

चारों और जीवन बिखरा और मादक संगीत भी

समुंद्र से नमक मांग ले नमकीन बना ले जिंदगी

 

Leave a Comment

Your email address will not be published.