flame, gas, gas flame-580342.jpg

सांझा चूल्हा

सांझे चूल्हे का सुख
विकृत अलगाव के दुःख से बहुत अलग है
साँझा होना व्यक्ति का वैचारिक तथ्य है
और विकृत होना प्रयोगात्मक तथ्य

साँझ में जब साँझा चूल्हा जलता है
बड़ी पीतल की कढाई में
काठ का चम्मच हिलता है
तो बन जाता है एक स्वादिष्ट मिश्रण भावनाओं का

जहा पर आस्थाएँ घूँघट ओढ़े
थाली में परोस लाती है भोजन
जिसे खाया जाता है मिलकर गाते हुए
और आनन्दित सुरों को एक साज मिल जाता है

जिस की तान में लय हो जाती है सम्पूरण संस्कृति
और एक नई सामाजिक संस्कृति का उदय
इस सँगीत से उत्त्पन्न होता है
यही वो संस्कृति है जो सांझी है

जिसमें है उमंगें सबके लिए
जिसमें है प्यार सबके लिए
यही है सांझी संस्कृति
यही है अपनी संस्कृति

Leave a Comment

Your email address will not be published.