• Home
  • My Poems
  • मेरे अन्र्मन्न पे ठेस लगी है!

मेरे अन्र्मन्न पे ठेस लगी है!

देख पीढाये दुनिया में 

मेरे अन्र्मन्न पे ठेस लगी है!

भूख से भिलखते बच्चे,
ठड से ठिठुरते बच्चे,
बिन रोटी ,बिन कपडे के ये ,
फूटपाथ पे सोते थे बच्चे !

निषदुर दुनिया देख रही है,
फिर भी कुछ न कर रही है,
देख विधाता की नियति को,
मेरे अन्र्मन्न पर ठेस लगी है !

Visit fbetting.co.uk Betfair Review