• Home
  • My Poems
  • मेरे बस की बात नहीं

मेरे बस की बात नहीं

बस एक सुर ताल में गाना

मेरे बस की बात नहीं
रोते हुए हँसना हँसाना
मेरे बस की बात नहीं
पढने का शौक है मुझे
हर कुछ पढ़ लेता हूँ
सलेबस को पढना पढ़ाना
मेरे बस की बात नहीं
दम तो बहुत है मुझमे
पर्वत भी उठा सकता हूँ मै
पर दंगो में लड़ना लड़ाना
मेरे बस की बात नहीं
बोलता तो बहुत हूँ मै
सारे रिकॉर्ड तोड़ता हूँ मै
पर भाषण देना दिलाना
मेरे बस की बात नहीं
गुर बहुत है मेरे पास
लड़कियां पटाने के
लेकिन खुद के लिए पटाना
मेरे बस की बात नहीं
दिलेर तो बहुत हूँ मै
भूतों से नहीं डरता हूँ
रातों को कहीं पर जाना
मेरे बस की बात नहीं
लिखता तो बहुत हूँ मै
पेज ही पेज भर जाते है
लिखे हुए को समझना समझाना
मेरे बस की बात नहीं
मुझे बजाना भी आता है
सब कुछ बजा लेता हूँ मै
बस एक सीटी बजाना
मेरे बस की बात नहीं

Visit fbetting.co.uk Betfair Review