• Home
  • My Poems
  • गले लगाना चाहता हूँ

गले लगाना चाहता हूँ

दफ़न एक एहसास को 

जिन्दा बनाना चाहता हूँ ,
मैं तुम्हे गले लगाना चाहता हूँ !!

मेरी खामोशियाँ मेरा प्यार ही तो है ,
ये एहसास दिलाना चाहता हूँ
मैं तुम्हे गले लगाना चाहता हूँ !!

यूँ तो हर चेहरा हसीन लगता है
सब से अलग हो तुम, बताना चाहता हूँ ,
मैं तुम्हे गले लगाना चाहता हूँ !!

शब्दों का जाल बुनना मुझे आता नहीं
पर अपना प्यार जाताना चाहता हूँ ,
मैं तुम्हे गले लगाना चाहता हूँ !!

जो शम्मा मेरे दिल में जल रही है,
तुम्हारे दिल में भी जलाना चाहता हूँ ,
मैं तुम्हे गले लगाना चाहता हूँ !!

उम्र भर रहो मेरे साथ तुम ,
तुम्हारी महक दिल में बसाना चाहता हूँ ,
मैं तुम्हे गले लगाना चाहता हूँ !!

सपनो में मैंने तुम्हे गले लगाया है ,
अब इसे हकीकत बनाना चाहता हूँ ,
मैं तुम्हे गले लगाना चाहता हूँ !!!

Visit fbetting.co.uk Betfair Review