• Home
  • My Poems
  • सिर्फ एक मानव हूँ मैं

सिर्फ एक मानव हूँ मैं

 

किसी दल से सरोकार नही
राजनीति मेरा आधार नहीं
सिर्फ एक मानव हूँ मैं
कोई धर्म मुझे स्वीकार नहीं

इतिहास गढ़ने की इच्छा नहीं
प्रवर्तक बनने का शौंक नहीं
आम रहना चाहता हूँ
खास बनना स्वीकार नहीं

प्रकृति से विमुखता नहीं
आत्म से व्याकुलता नहीं
सच में जीना चाहता हूँ
झूठ मुझे स्वीकार नहीं

स्वर्ग से मुझ को मोह नहीं
नरक से भी चिढ नहीं
कर्मोनुसार फल मिले
पक्षपात मुझे स्वीकार नहीं

आलोचना करने से भय नहीं
प्रशंशा से परहेज नहीं
योग्य व्यक्ति की क़द्र हो
अयोग्य मुझे स्वीकार नहीं

Visit fbetting.co.uk Betfair Review